भरनी - मंत्रमुग्ध करने वाली शैली

क्या आपने कभी बच्चों की रंग-बिरंगी पुस्तकों को देखा है? फूलों, इंद्रधनुष आदि की काली, मोटी रूपरेखाओं के भीतर भरे मनोहर रंग दिल छू जाते हैं। कुछ ऐसा ही अर्क होता है मधुबनी कला की भरनी शैली का।


Source: https://images.app.goo.gl/YGfTRciLci9wdXaZ8



भरनी में - जैसा कि इसका शाब्दिक अर्थ है- गहरी काली स्याही से रूपरेखाएँ बनाई जाती हैं, और संलग्न क्षेत्र चमकीले पीले, नीले, हरे, गुलाबी, लाल, नारंगी, वगैरह से भरे होते हैं।यह शैली विशेष रूप से चमकीले और जीवंत रंगों के लिए जानी जाती है। रंगों की मंत्रमुग्ध कर देने वाली विविधता और समृद्ध रेखा का काम भरनी चित्रकला को ख़ास बनाता है।



Source: https://images.app.goo.gl/sSvjn87baCpTUZmP7


ऐसा कहा जाता है कि भरनी कला मुख्य रूप से ब्राह्मण और कायस्थ जाति की महिलाओं द्वारा की जाती थी। जितवानपुर गांव की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त कलाकार सीता देवी मधुबनी कला की भरनी शैली के विकास में अग्रणी थीं। सीता देवी के बाद, बउआ देवी को उल्लेखनीय रूप से विरासत में मिली और उन्होंने अपनी शैली को अपनाया।


भरनी कला मुख्य रूप से पवित्र साहित्य और हिंदू पौराणिक कथाओं को चित्रित करती है। सामान्य विषयों में हिंदू देवता जैसे काली, विष्णु, दुर्गा, श्री कृष्ण और अन्य देवी-देवता शामिल हैं।

यह रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों के चित्रण के रूप में कहानी कहने का एक माध्यम है। सीता का जन्म, राम-सीता विवाह, राधा-कृष्ण और शिव-पार्वती के जीवन की कथाएँ (जिन्हें मिथिला चित्रों में योग-योगिनी के रूप में भी जाना जाता है) भरनी शैली में सबसे गहरे और लोकप्रिय चित्रण हैं।


Source: https://images.app.goo.gl/3rV2qd2QgmDnqkTv5


मधुबनी की यह शैली न केवल इस ललित कला की विशेषता को दर्शाती है, बल्कि इसके कथा सुनाने की अपूर्व क्षमता इसे अन्य चित्रकला शैलियों से अलग बनाती है।


Author: Pratichi Rai

Editor: Rachita Biswas

144 views0 comments